India vs England T 20: फास्ट बॉलिंग के आगे फेल हुआ भारत का टॉप ऑर्डर, टीम इंडिया की ये वजह आई सामने…

इंग्लैंड ने तीसरे टी-20 मुकाबले में टीम इंडिया को 8 विकेट से हरा दिया। लाल मिट्टी से बनी पिच पर यह मैच खेला गया। इस लिहाज से उम्मीद थी कि पिच से स्पिनर्स को ज्यादा मदद मिल सकेगी लेकिन मार्क वुडड और जोफ्रा आर्चर की तूफानी तेज गेंदबाजी ने भारतीय बल्लेबाजी को घुटने के बल लाकर खड़ा कर दिया।

पावर प्ले में भारत की पारी पावर विहीन लगी। इसके बाद गेंदबाजी की जब बारी आई तो पहले 6 ओवर में ही यह स्पष्ट हो गया कि मैच किस तरफ इशारा कर रहा है। टॉस और खराब शुरुआत सहित पांच ऐसे फैक्टर माने जा रहे जो मुकाबले में भारत को हार की तरफ ले गए। टॉस के लिए सिक्का उछाला तो हात से जाता है लेकिन यह किस करवट होगा इस बात पर सिर्फ अनुमान लगाया जा सकता है। विराट कोहली ने सीरीज में दूसरी बार टॉस गंवाया तो भारतीय टीम भी दूसरी बार मैच हार गई।

मार्क वुड ने नियमित तौर पर 150 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से गेंदबादी की। जोफ्रा आर्चर भी ज्यादातर मौकों पर 140 की रफ्तार से ऊपर रहे। धीमी पिच पर इतनी तेज गेंदों के आगे भारतीय बल्लेबाज असहज दिखाई दिए। वुड ने राहुल और रोहित के विकेट लेकर शुरूआत में ही भारत को बैकफुट पर धकेल दिया। भारतीय पारी में विराट कोहली 28 गेंद बाद ही क्रीज पर आ गए थे। उनके आने के बाद 92 गेंदे हुईं। विराट को इनमें से आधी ही खेलने का अवसर मिल सका। अगर वे 55-60 गेंद खेल पाते तो भारतीय पारी भी 156 की जगह 175 पर पहुंच सकती थी।