Assembly Election Result 2021: PM मोदी के लिए 5 राज्यों के चुनावी नतीजों के क्या है मायने, छवि हुई धुमिल या दिखाई ताकत

पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, केल और पुडुचेरी के विधानसभा चुनावों के नतीजे रविवार को आ गए हैं। इन चुनाव परिणामों ने केंद्रीय और राज्य नेताओं की सियासी किस्मत पलट दी है। किसी के हाथ निराशा लगी है तो किसी के सितारे चमके हैं। इस बार पश्चिम बंगाल के चुनाव नतीजों पर सबकी निगाहें बनी रही लेकिन फिर से ममता बनर्जी की पार्टी को तीसरी बार सत्ता का सुख मिला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल में बंगाल का विधानसभा चुनाव सबसे बड़ा चुनाव था।

Read More……….

IPL 2021 Updates: कोलकाता नाइट राइडर्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच मुकाबला टला

इन पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में पीएम नरेंद्र मोदी के लिए क्या मायने रहे? जब कोरोना महामारी की दूसरी लहर के प्रकोप से देश में हाहाकार मचा है। उस वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बंगाल में व्यापक चुनाव प्रचार किया। बंगाल की सीएम और TMC सुप्रीमो ममता बनर्जी को चुनौती देते हुए बीजेपी की जीत पर एक सुनहरे बंगाल का वादा किया। 

बंगाल चुनाव इस बार ममता बनाम बीजेपी बना रहा। हालांकि, चुनाव नतीजों को प्रधानमंत्री की हार के रूप में देखना गलत होगा। राज्य के चुनाव स्थानीय मुद्दों पर लड़े जाते हैं और पीएम की लोकप्रियता राष्ट्र स्तर पर है। बंगाल चुनाव में बीजेपी को जीत नहीं मिलना पीएम मोदी के लिए निश्चित तौर से एक राजनीतिक झटका है।

पीएम मोदी ने दिखाया कि उन्हें कभी भी कम नहीं आंका जा सकता है। हालांकि, असम में पार्टी की जीत के बावजूद इन चुनावों के समग्र नतीजों ने पीएम मोदी के सामने चुनौतियां बढ़ा दी है। ममता के गढ़ में सेंध लगाने के लिए बीजेपी के केंद्रीय मंत्रियों से लेकर स्थानीय नेताओं ने पूरो जोर लगा दिया। बीजेपी को बंगाल पर फतह पाने के लिए पिछले समीकरणों से संकेत मिले हैं लेकिन ऐसा हो नहीं सका।  

बंगाल में इस बार 292 विधानसभा सीटों पर 8 चरणों में मतदान हुआ। मतदान के दौरान कई जगहों से हिंसा की खबरें आई। लोकसभा चुनाव में मिली सफलता के बाद बीजेपी ने बंगाल में 200 सीटें जीतने का प्लान बनाया था।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US