Burqa Controversy: बुर्के पर बयान के बाद गरमाई सियासत, ये क्या बोल गए योगी के मंत्री

उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ल का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि महिलाओं पर कुछ भी थोपना नहीं चाहिए। शुक्ल ने कहा कि महिलाएं क्या पहने क्या नहीं इसको लेकर उन्हें आजादी होनी चाहिए। मुस्लिम महिलाओं को बुर्के से मुक्ति दिलाने के बयान के एक दिन बाद यूपी के संसदीय कार्य राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ल ने महिलाओं को कोई भी वस्त्र पहनने की आजादी वाला बयान दिया है।

उन्होंने कहा कि रूढिवादी और परंपरा के नाम पर महिलाओं पर कुछ भी थोपा नहीं जा सकता। समाज के प्रबुद्ध लोगों और धर्म गुरुओं को 21वीं सदी के साथ समाज को आगे बढ़ाने का अवसर देना चाहिए। राज्यमंत्री शुक्ल ने गुरुवार को मीडिया से बात करते हुए बुर्का से आजादी दिलाने के अपने बयान पर सफाई दी है। मंत्री ने कहा कि किसी भी धर्म की महिला को यह स्वतंत्रता होनी चाहिए कि वह क्या पहने और क्या नहीं पहने? उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से मुस्लिम धर्म गुरुओं को इस बारे में विचार करना चाहिए। मुस्लिम महिलाओं को यह अधिकार मिलना चाहिए कि वह चाहे तो बुर्का पहने या ना पहने।

राज्य के संसदीय कार्य राज्य मंत्री ने यह टिप्पणी अजान को लेकर दिए गए उनके बयान पर मुस्लिम धर्म गुरुओं के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए की। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट ने आम लोगों के अधिकार को सुरक्षित रखते हुए रात्रि 10 बजे से सुबह 10 बजे तक ध्वनि विस्तारक यंत्रों के प्रयोग की मनाही की है।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US