Chaitra Navratri 2021 Date: चैत्र नवरात्र 13 अप्रैल से शुरू, जानें नवरात्रि व्रत का महत्व

चैत्र नवरात्र इस साल 13 अप्रैल से शुरू हो गए हैं। नवरात्रों का समापन 21 अप्रैल को होगा। 9 दिन तक मां दुर्गा के 9 स्वरूपों की पूजा की जाती है। दरअसल, एक साल में दो गुप्त और दो प्राकट्य नवरात्र होते हैं। शास्त्रों के जानकारों के अनुसार, इस बार कोई भी तिथि क्षय नहीं होगी।  प्राकट्य नवरात्रियों में नवदुर्गा की पूजा की जाती है। वहीं गुप्त नवरात्रि में सिद्धि प्राप्त करने के लिए विशेष मंत्र जाप के साथ देवी के महाविद्या स्वरूपों की पूजा अर्चना करते हैं।

Read More….

Nahargarh Biological Park: बायोलॉजिकल पार्क बना पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र, घूमने जाने से पहले जान लें ये बातें

नवरात्रों में जौ उगाने की परंपरा रही है। मां दुर्गा को खुश करने के लिए भक्त नौ दिन तक पूजा अर्चना के साथ भजन कीर्तन करते हैं। लोग नरात्रों में नौ दिन तक व्रत रखकर विधि विधान से मां की पूजा करते हैं। बता दें कि नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है। माता शैलपुत्री हिमालय राज की पुत्री है। माता के इस स्वरूप की स्वारी नंदी पर है। नवरात्रि के पहले दिन घटस्थापना की जाती है। नवरात्रों के नौ दिन तक मां शैलपुत्री के अलग-अलग रूपों की पूजा-अर्चना की जाती है।

नवरात्रि व्रत का पारण कन्याओं को भोजन कराकर किया जाता है। कई लोग नवरात्रों के आठवें दिन (अष्टमी) कन्याओं का पूजन करके उपवास खोलते हैं। कई लोग नौवें दिन पूजा कर व्रत खोलते हैं। इसे नवमी कहते हैं। कुछ लोग नवरात्रि के नौ दिन तक व्रत रखकर 10वें दिन व्रत का पारण करते हैं। नवरात्रों के 10वें दिन को विजयादशमी कहा जाता है।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US