City Palace Jaipur: जानिए सिटी पैलेस की वो बड़ी बातें जो शायद ही आपको पता हो

देश के सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में जयपुर का नाम अग्रणी है। गुलाबी नगरी का नाम आते ही ऐतिहासिक और पर्टयन स्थलों के चित्र दिमाग में बनने लगते हैं। जयपुर स्थित सिटी पैलेसे भी पर्यटकों के लिए मशहूर है। गुलाबी नगरी के बीच स्थित यह खूबसूरत पैलेसे लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करता है।

लोगों के लिए क्यों बना आकर्षण का केंद्र

इस खूबसूरत परिसर में कई इमारतें,विशाल आंगन जैसे भव्य इमारते हैं। पिछले जमाने के कीमती सामान को यहां संरक्षित किया गया है। इसके महल के छोटे से भाग को संग्राहलय और आर्ट गैलरी में तब्दील किया गया है। महल की खूबसूरती को देखने के लिए सैलानी दुनियाभर से सिटी पैलेस को अपने कैमरे में कैद करते नजर आते हैं।

क्या है सिटी पैलेस का इतिहास

सिटी पैलेस का निर्णाण महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय ने 1729 से 1732 के मध्य कराया था। शाही वास्तुकार विद्याधर भट्टाचार्य और अंग्रेज शिल्पकार सर सैमुअल स्विंटन जैकब ने उस समय 20वीं सदी का आधुनिका नगर रचा था। सिटी पैलेस की भवन शैली राजपूत, मुगल और यूरोपियान शैलियों का मिश्रण है। लाल और गुलाबी सेंडस्टोन से निर्मित इन इमारतों में पत्थर पर की गई बारीक कटाई और दीवारों पर की गई चित्रकारी मन मोह लेती है। कछवाहा शासकों के पास धन दौलत की कोई कमी नहीं थी। इसलिए महाराजा जयसिंह द्वितीय पूरी तरह नियोजित सुरक्षित, सुंदर और विकसित शहर बसाना चाहते थे। 

Read More…..

Galat Song Out: रुबीना दिलैक को पारस छाबड़ा ने प्यार में दिया धोखा, ट्रेंड कर रहा ये म्यूजिक

प्रवेश के लिए क्या है सुविधा

पर्यटक बड़ी चौपड़ से हवामहल मार्ग होते हुए सिरह ड्योढी दरवाजा से जलेब चौक पहुंचते हैं। सिरहड्योढी दरवाजे के सामने पैलेस में प्रवेश के लिए उदयपोल दरवाजा है। चौक के दक्षिण द्वार से जंतर-मंतर के वीरेंद्र पोल गेट से सिटी पैलेस में प्रवेश द्वार है। इस प्रवेश द्वार के ठीक दाईं तरफ टिकिट खिड़की है, जहां महल में प्रवेश लेने के लिए निर्धारित शुल्क अदा कर महत्वपूर्म जानकारियों से रूबरू हो सकते हैं। वीरेंद्र पोल के बायें तरफ सुरक्षा कक्ष है और दायें तरफ फोटोग्राफी कक्ष।   

सिटी पैलेस का क्यों पड़ा सूर्य चंद्र महल नाम

जयपुर के सिटी पैलेस के बारे में यह उक्ति सटीक है कि “शहर के बीच सिटी पैलेस नहीं, सिटी पैलेस के चारों ओर शहर है। जयपुर की स्थापना पूरी तरह से वास्तु आधारित थी। इस प्रकार सूर्य के चारों ओर ग्रह होते हैं। ठीक उसी तरह जयपुर का सूर्य चंद्रमहल यानि सिटी पैलेस है।वर्तमान में चंद्रमहल में शाही परिवार के लोग निवास करते हैं। सात मंजिला इस खूबसूरत ईमारत की सातों मंजिलों की विशेषताओं के अनुरूप ही उनके नाम हैं। जैसे सुखनिवास’, ‘रंग मंदिर’, ‘पीतम निवास’, ‘श्रीनिवास’, ‘मुकुट महल’ आदि। कहा जा सकता ही कि सिटी पैलेस से जयपुर शहर की शोभा है। देश विदेश से आने वाले मेहमान यहां अतीत की खुशबू और शाही अंदाज को महसूस करते हैं।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US