Delhi Doorstep Delivery of Ration Scheme: राशन की ‘डोर स्टेप डिलीवरी’ पर केंद्र-AAP सरकार में रार, ये क्या बोल गए CM केजरीवाल

दिल्ली सरकार की महत्वाकांक्षी मुख्यमंत्री घर-घर राशन योजना को लेकर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार और केजरीवाल सरकार में एक बार फिर से जंग छिड़ी है। इस योजना को केंद्र सरकार से मंजूरी नहीं मिलने का बाद सीएम केजरीवाल ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लिया। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में 25 मार्च से क्रांतिकारी योजना शुरू होने जा रही थी। मुख्यमंत्री घर-घर राशन योजना। लोगों को पहले राशन की दुकानों पर जाना पड़ता था जिससे उनको लाइनों में खड़े होने से परेशानी का सामना करना पड़ता था। हमने इस समस्या पर लोगों के घर के दरवाजे तक राशन पहुंचाने का तरीका निकाला।

केजरीवाल ने केंद्र सरकरा को घेरते हुए कहा कि उनको इस योजना के नाम पर आपत्ति थी। हम यह योजना अपना नाम चमकाने के लिए नही कर रहे हैं। अगर यही आपत्ति है तो हमने योजना का नाम हटाने का फैसला किया और हमें कोई क्रेडिट नहीं चाहिए। सीएम ने कहा कि अब लगता है कि इस निर्णय के बाद केंद्र की आपत्तियां दूर होंगी और अब वे इस पर रोक नहीं लगाएंगे। केजरीवाल सरकार 25 मार्च से राशन की डोर स्टेप डिलीवरी योजना को शुरू करने वाली थी। इसके तहत लोगों को उन्हें घर पर ही सूखा राशन मिलता लेकिन अब मोदी सरकरा ने इस योजना पर रोक लगा दी है।

बता दें दिल्ली सरकार की यह योजना राजधानी में पहले से ही शुरू होनी थी लेकिन राशन की दुकानों पर बायोमैट्रिक मशीनों का संचालन ठीक से नहीं होने के कारण इस योजना में देरी हो गई। केजरीवाल सरकार की इस योजना के तहत सभी 70 विधानसभाओें में करीब 17 लाख लोगों के घरों तक राशन पहुंचाए जाने की तैयारी थी।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US