Lockdown In India: देशभर में लाकडाउन की मांग, क्या सरकार पर बढ़ने लगा है दबाव

देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर बेकाबू हो गई है। पिछले 24 घंटे में कोरोना के साढ़े 3 लाख से ज्यादा मामल सामने आए हैं। ये आंकड़ा करीब 50 देशों में एक दिन में आने वाले मामलों से भी ज्यादा है। कोरोना की दूसरी लहर की चेन तोड़ने के लिए एक बार फिर से संपूर्ण लॉकडाउन की मांग उठने लगी है।देश में लॉकडाउन लगाने को लेकर फिर से बहस छिड़ गई है। लॉकडान से अर्थव्यवस्था को कितना नुकसान उठाना पड़ता है यह देश देख चुका है लेकिन इस बार उद्योग जगत की तरफ से ही इसकी मांग की जाने लगी है।

Read More………

Coronavirus India: 24 घंटे में कोरोना केस में आई गिरावट, देश के 7 राज्यों में कम हुए मामले

देश के सबसे बड़े उद्योग चैंबर सीआइआइ ने भी सरकार से आग्रह किया है कि वह देश की जनता के कष्ट को कम करने के लिए व्यापक स्तर पर आर्थिक गतिवधियों को सीमित करने का कदम उठाए। देश के छोटे व्यापारी भी लॉकडाउन का समर्थन कर चुके हैं। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा है कि देश में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रसार को रोकने का एकमात्र तरीका फुल लाकडाउन है।

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा कि वह जनहित को ध्यान में रखते हुए लाकडाउन के विकल्प पर विचार करे ताकि कोरोना वायरस के विस्तार को रोका जा सके। कोर्ट ने कहा कि देश में बढ़ते कोरोना के मामलों को लेकर हम गंभीर रूप से केंद्र और राज्य सरकारों से सामूहिक समारोहों और सुपर स्प्रेडर घटनाओं पर प्रतिबंध लगाने पर विचार करने का आग्रह करेंगे। वे लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए कोरोना को रोकने के लिए लॉकडाउन लगाने पर विचार करे।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US