Coronavirus in Rajasthan: ऑक्सीजन की कमी से प्रशासन की फूल रही सांसें, 20 दिन में आए 1 लाख केस

कोरोना की दूसरी लहर ने स्वास्थ्य सेवाओं की पोल खोल दी है। प्रदेश के प्रमुख बड़े शहरों में कोरोना को लेकर हाहाकर मचा है। जयपुर, उदयपुर, जोधपुर और कोटा में कोविड अस्पतालों के बेड फुल हो गए हैं। समय पर लोगों को उपचार नहीं मिल पा रहा है। कोटा में ऑक्सीजन सप्लाई बाधित होने से पिछले दिन दो लोगों की मौत हो चुकी है।  ऑक्सीजन और बेड की कमी के कारण मरीज भटक रहे हैं। सरकार से लेकर निजी अस्पातलों पर दबाव इस कदर बढ़ा है कि कोई भी कुछ बेहतर कर पाने की स्थिति में नहीं है। 

Read More………..

Lockdown in Jharkhand: झारखंड में लगा पूर्ण लॉकडाउन, 22 से 29 अप्रैल तक रहेगा लागू

पिछले 20 दिनों में एक लाख से ज्यादा केस सामने आ चुके हैंय़। आगामी दिनों में कोरोना संक्रमण को लेकर हालात बिगड़ने से इनकार नहीं किया जा सकता है। प्रदेश में हर रोज औसतन 13 हजार से अधिक ऑक्सीजन सिलेंडरों की खपत हो रही है। कोरोना संक्रमण के बीच ऑक्सीजन की मांग तेजी से बढ़ रही है। 

जयपुर और कोटा के अस्पतालों में बेड फुल हो चुके हैं। जोधपुर में 18 दिन में 70 लोगों की मौत हुई है। कोरोना की वर्तमान हालात को देखते हुए राजस्थान में 22 अप्रैल से 21 मई तक सीआरपीसी की धारा 144 लागू की जाएगी। राज्य गृह विभाग ने इस बारे में मीडिया को जानकारी दी है। जयपुर में अभी सबसे ज्यादा तेजी से केस मिल रहे हैं। वहीं अस्पतालों पर उपचार कराने वालों का लोड भी बढ़ता जा रहा है। ऐसे हालात में गहलोत सरकार अब प्रदेश का सबसे बड़ा अस्थायी कोविड केयर सेंटर बनाने की तैयारी में है। इसके चलते राधा स्वामी सत्संग व्यास में सबसे बड़ा कोविड सेंटर बनानया जाएगा।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US