Kumbh 2021 को लेकर सरकार-संतों की गुप्त बैठकें, जूना अखाड़ा बोला- पहले चुनावी रैलियां बंद करें

कुंभ मेले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साधु-संतो से कुंभ मेले को खत्म करने की अपील की है। मोदी ने महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी से फोन पर बात की है। उन्होंने कुंभ मेले में कोरोना संक्रमित पाए जा रहे साधु संतों को हाल भी जाना है। निरंजनी और आनंद अखाड़ा ने पहले ही अपनी ओर से कुंभ समाप्ति का ऐलान किया है। लेकिन कुछ अखाड़े समय से पहले कुंभ मेला खत्म करने की बात को लेकर नाराजगी जता रहे हैं।

Read More……

Dr Sarvepalli Radhakrishnan Death Anniversary: डॉ राधाकृष्णन की पुण्यतिथि आज, जानें पूर्व राष्ट्रपति का सियासी सफर

साधु संतो को मनाने के लिए उत्तराखंड सरकार पिछले दो दिनों से गुप्त बैठकें कर रही है। पीएम मोदी की अपील को भी इसी कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। लेकिन सभी अखाड़ों में सहमति बनती नहीं दिख रही है। सबसे ताकवर माने जाने वाले जूना अखाड़े ने स्पष्ट किया है कि वह समय से पहले कुंभ खत्म नहीं करेंगे। 27 अप्रैल को होने वाले अखाड़े में सभी साधु संत हिस्सा लेकर कुंभ की डुबकी लगाएंगे। कुंभ मेले को वक्त से पहले खत्म करने की कोशिशों के बीच कई अखाड़ों में तमभेद है। जूना अखाड़ा के राष्ट्रीय महामंत्री महंत हरि गिरी ने कहा कि निरंजनी अखाड़े की ओर से कुंभ समाप्ति के ऐलान के पीछे सरकार का हाथ है।

कोई एक अखाड़ा कुंभ मेले को समाप्त करने की घोषणा नहीं कर सकता है। महंत गिरि ने कहा कि कुंभ मेला खत्म होगा या आगे चलेगा इसका फैसला सभी अखाड़ो से बातचीत के आधार पर होगा। जूना अखाड़े के नागा साधु गजेंद्र गिरी भी महंत हरि गिरी की बात का समर्थन करते हैं। उन्होंने कहा कि 12 साल में एक बार पूर्ण कुंभ होता है। लेकिन चुनाव हर पांच साल में होते हैं बंद करवाना है तो पहले चुनावी रैलियों को बंद करो।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US