Coronavirus in Kumbh 2021: संतों में कोरोना फैलने पर भिड़े अखाड़े, निरंजनी अखाड़े के 17 संत संक्रमित हुए

उत्तराखंड में आस्था के महाकुंभ के बीच अब कोरोना के मामले बढ़ने लगे हैं। आलम ये है कि कुंभ में कोरोना का संक्रमण फैलने को लेकर अब अखाड़े के साधु संत आपस में भिड़ गए हैं। एक दूजे पर कोरोना फैलाने के आरोप लगने लगे हैं। बैरागी अखाड़े का आरोप है कि कुंभ में कोरोना सन्यासी अखाड़ों से फैला है। निर्मोही अखाड़े के अध्यक्ष राजेंद्र दास ने कुंभ में कोरोना फैलाने के लिए अखाड़ा परिषथद के अध्य महंत गिरी को जिम्मेदार ठहराया है। हरिद्वार में कुंभ मेला का समय 30 अप्रैल तक है।

Read More….

Coronavirus in Rajasthan Curfew: राजस्थान में आज शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू, इनमें सेवाओं में रहेगी छूट  

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच निरंजनी अखाड़े ने 15 दिन पहले ही कुंभ मेला खत्म करने के ऐलान किया था। इस अखाड़े के 17 साधु कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। अभी कई अन्य अखाड़ों के करीब 200 से ज्यादा साधु-संतों की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट आना बाकी है। अब तक 50 से ज्यादा साधु संत संक्रमित हो चुके हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि अलग-अलग अखाड़ों में जाकर साधुओं के RT-PCR टेस्ट किए जा रहे हैं। 17 अप्रैल से टेस्टिंग दर को बढ़ा दिया जाएगा।

गुरुवार को अखिल भारतीय श्री पंच निर्वाणी अखाड़े के 65 वर्षीय महामंडलेश्वर कपिल देवदास की मौत हो गई। महामंडलेश्वर कोरोना की चपेट में आने के बाद टेस्ट पॉजिटिव पाए गए थे। वे कुंभ मेले में रहे थे।  कुंभ का मुख्य शाही स्नान पूरा हो गया है। उनके अखाड़े के साधुओं में कोरोना के लक्षण दिख रहे हैं। कुंभ से भीड़ कम होने लगी है। इसके चलते हरिद्वार में तैनात फोर्स की वापसी भी शुरू हो गई है।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US