Dabholkar Case: बॉम्बे HC ने लगाई CBI को फटकार, 7 साल में भी क्यों नहीं शुरू हुई सुनवाई?

दाभोलकर हत्याकांड में बॉम्बे हाईकोर्ट ने सीबीआई और एसआईटी को फटकार लगाई है। HC ने कहा कि वे कब तक अपनी जांच पूरी कर लेंगी। जस्टिस एसएस शिंदे और जस्टिस पी.मनीष का पारा उस समय चढ़ गया जब उन्हें बताया गया कि कर्नाटक में कन्नड लेखक एमएम कलबुर्गी और पत्रकार गौरी लंकेश से जुड़े मामलों का ट्रायल शुरू हो चुका है। कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि वारदा को 7 साल बीत चुके हैं। लेकिन लचर जांच की वजह से इस मामले की सुनवाई भी शुरू नहीं की जा सकी है।

कोर्ट ने सवाल किया कि सारे मामले एक तरह के हैं तो महाराष्ट्र में अभी तक दाभोलकर केस की सुनवाई शुरू क्यों नहीं हो पाई है। कोर्ट ने कहा कि दाभोल की हत्या 2013 में हुई। हम 2021 में भी मामले की जांच पूरी होने का इंतजार करने में लगे हुए हैं। कर्नाटक की वारदातें इसके बाद हईं और वहां ट्रायल भी शुरू हो चुका है।

कन्नड लेखक कलबुर्गी को 30 अगस्त 2015 को गोली मारी गई। जांच एजेंसियों ने कहा था कि इन तीनों मामलों के साथ पत्रकार गौरी लकेंश की हत्या के तार दक्षिण पंथी चरमपंथियों से जुड़े हुए हैं। लंकेश की हत्या 2017 में की गई थी। बता दें कि हाईकोर्ट दाभोलकर और CPI नेता गोविंद पानसरे की हत्या से जुड़ी जांच की निगरानी कर रहा है। 20 अगस्त 2013 को पुणे में दाभोलकर की हत्या कर दी गई थी। जबकि पानसरे को महाराष्ट्र के कोल्हापुर में 16 फरवरी 2015 को गोली मारी गई थी।