Dadasaheb Phalke Award 2021: कौन थे दादा साहब फाल्के जिनके नाम के अवॉर्ड से नवाजे जाएंगे रजनीकांत

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि इस साल का दादा साहब फाल्के अवॉर्ड से महान नायक रजनीकांत को सम्मानित किया जाएगा। पिछले 5 दशक से रजनीकांत सिनेमा पर राज कर रहे हैं। रजनीकांत पिछले पांच दशक से सिनेमा पर राज कर रहे हैं। dadasaheb phalke को भारतीय सिनेमा का सबसे प्रतिष्ठित अवॉर्ड माना जाता है। एक्टर रजनीकांत का बचपन मुश्किलों से भरा रहा है। बचपन में उन्हें आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ा था। रजनीकांत का असली नाम शिवाजी राव गायकवाड़ था। यही शिवाजी राव आगे चलकर रजनीकांत के नाम से पहचाने जाने लगे।

Read More……

Dadasaheb Phalke Award: रजनीकांत को दादा साहेब फाल्के अवार्ड का ऐलान, फिर PM का ट्वीट, जानें क्या है ये चुनावी दांव

कौन थे दादा साहब फाल्के

दादा साहब फाल्के को भारतीय सिनेमा का जन्मदाता कहा जाता है। उनका जन्म 30 अप्रैल 1870 को हुआ था। 1913 में उन्होंने राजा हरिशचंद्र नाम की पहली फुल लेंथ फीचर फिल्म बनाई थी। दादा साहब सिर्फ एक निर्देशक नहीं नहीं जाने-माने फिल्म निर्माता भी थे। उन्होंने 19 साल के फिल्मी करियर में 95 फिल्में और 27 शॉर्ट फिल्में बनाईं। भारतीय सिनेमा में दादा साहब के एतिहासिक योगदान के चलते 1969 से भारत सररा ने उनके सम्मान में दादा साहब फाल्के अवार्ड शुरू किया था। दादा साहब फाल्के पुरस्कार भारतीय सिनेमा का सर्वोच पुरस्कार माना जाता है।

अवॉर्ड में क्या दिया जाता है

बता दें कि हर साल सिनेमा जगत से किसी एक कलाकार को इस अवॉर्ड के लिए चुना जाता है। वहीं विजेता को एक स्वर्ण कमल मेडल, शॉल और 10 लाख रुपये नकद पुरस्कार दिया जाता है। यह पूरी प्रक्रिया केंद्र सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के द्वारा की जाती है।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US