Dr Sarvepalli Radhakrishnan Death Anniversary: डॉ राधाकृष्णन की पुण्यतिथि आज, जानें पूर्व राष्ट्रपति का सियासी सफर

भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की आज पुण्यतिथि है। राधाकृष्णन वो शख्स है जिनके सम्मान में 5 सितंबर को देश में शिक्षक दिवस मनाया जाता है। साल 1975 में आज ही के उन्होंने दुनिया को अलविदा कहा था। अपने जीवन में आदर्श शिक्षक रहे भारत के द्वितीय राष्ट्रपति डॉ राधाकृष्णन का जन्म 5 सिंतबर, 1888 को तमिलनाडु के तिरुतनी ग्राम में हुआ था।

Read More……

Samsung Galaxy S20 FE 5G : सैमसंग गैलेक्सी एस 20 FE 5 जी वेरिएंट लॉन्च, जानिए कीमत और फीचर्स

शुरुआती शिक्षा उन्होंने लूनर्थ मिशनरी स्कूल, तिरुपति और लेल्लूर से ग्रहण की थी। इसके बाद उन्होंने मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज में पढ़ाई की। बताया जाता है कि राधाकृष्णन ने 12 साल की उम्र में ही स्वामी विवेकानंद के दर्शन और बाइबिल का अध्ययन किया था। उन्होंने दर्शन शास्त्र से एमए किया। 1916 में मद्रास रेजीडेंसी कॉलेज में सहायक अध्यापक के तौर पर उनकी नियुक्ति हुई। उन्होंने 40 साल तक एक शिक्षक के रूप में काम किया था। उसके बाद 1931 से 1936 तक आंध्र विश्वविद्यालय के कुलपति रहे।  1936से 1952 तक ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में प्राध्यापक के पद पर रहे। 

1939 से 1948 तक वह काशी हिंदू विश्वविद्यालय के कुलपति के पद पर आसीन रहे। 1952 में उन्हें भारत का प्रथम उपराष्ट्रपति बनाया गया। 1953 से 1962 तक वो दिल्ली यूनीवर्सिटी के कुलपति रहे थे। वे 13 मई 1962 को देश के दूसरे राष्ट्रपति चुने गए। 1954 में भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद ने उन्हें भारत रत्न के सम्मान से नवाजा। ब्रिटिश शासन काल में राधाकृष्णन के सर की उपाधि दी गई थी। सर्वपल्ली राधाकृष्ण का 17 अप्रैल 1975 को निधन हो गया था। लेकिन एक आदर्श शिक्षक और दार्शनिक के रूप में वो आज भी सभी के लिए प्रेरणास्रोत हैं।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US