Farmers Protest Updates: किसान नेता राकेश टिकैत का बड़ा बयान, बताया कब तक चलेगा आंदोलन

केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर जारी आंदोलन की रफ्तार धीमी हो गई है। इसकी वजह किसान खेतों में खड़ी फसलों को समेटने में लगे हुए हैं। हालांकि,आंदोलन को फिर से गति देने के लिए किसान संगठनों ने रुख किया है। Farmers Protest कृषि कानूनों को रद्द करने और एमएसपी पर कानून बनाने की मांग को लेकर किसान आंदोलन कर रहे हैं। वहीं केंद्र सरकार इन कानूनों में सिर्फ संशोधन करने को तैयार है। किसानों को यह कतई स्वीकार नहीं है।

Read More….

Dadasaheb Phalke Award: रजनीकांत को दादा साहेब फाल्के अवार्ड का ऐलान, फिर PM का ट्वीट, जानें क्या है ये चुनावी दांव

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने गुरुवार को बड़ा बयान दिया है। टिकैत ने कहा कि आंदोलन अभी 8 महीने और चलाना पड़ेगा। किसान आदोंलन तो करना ही पड़ेगा। अगर आंदोलन नहीं किया तो किसानों की जमीन जाएगी। किसान 10 मी तक अपनी गेंहू की फसल काट लेंगे। उसके बाद आंदोलन को फिर से तेजी दी जाएगी। 

बता दें कि 26 जनवरी को किसान ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली के लाल किले में हुई हिंसा के बाद आंदोलन बिखर गया था लेकिन किसान नेता राकेश टिकैत के आंसुओं ने आंदोलन को फिर से नई दिशा दी। इसके बाद देश के कई हिस्सों में किसान महापंचायतों का आयोजन होने लगा। इस बीच देश के पांच राज्यों बंगाल, असम, तमिलनाडु, पुडुचेरी और केरल में हो रहे चुनावों को देखते हुए किसान संगठन सक्रिय हुए। इसके साथ ही चुनावी राज्यों का दौरा कर किसान महापंचायतों के जरिए बीजेपी के खिलाफ वोट करने की अपील की है।    

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US