Gang Rape in Jhalawar: 15 साल की किशोरी से 9 दिन तक गैंगरेप, पुलिस ने 20 आरोपियों को पकड़ा…

राजस्थान से हैवानित और बेबसी की खबर सामने आई है। दरिंदगी की हदें पार करने वाली ये वारदात सिस्टम की खोखली परतों को भी उधेड़ने वाली है। कोटा की 15 साल की एक बच्ची को झालावाड़ ले जाकर 9 दिनों तक 18 से ज्यादा दरिंदें गैंगरेप करते रहे। दर्द से कराहती पी़ड़िता को नशा दे दिया जाता और जब नशे से मना करती तो बुरी तरह से पीटा जाता। घर छोड़ने की मिन्नतें करती तो चाकू की नौक पर डराया जाता।

25 फरवरी को पीड़िता की पहचान की लड़की और उसका साथी बैग दिलाने के बहाने उसे कोटा के सुकेत से झालावाड़ ले गए। वहां उसे दरिंदो के ह वाले कर दिया गया। जिन्होंने 9 दिन तक घर से लेकर होटल और खेत तक में उससे कई बार दुष्कर्म किया। 5 मार्च को वापसी सुकेत छोड़ दिया। 6 मार्च को पीड़िता ने विधवा मां के साथ जाकर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। पीड़िता के भाई का आरोप है कि हम गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाने कई बार थाने के चक्कर लगाए लेकिन पुलिस ने टरका दिया। मां ने कहा है कि ऐसे दरिंदों को तो फांसी पर लटकाना चाहिए।

अब तक 4 नाबालिग सहित 20 दरिंदे पकड़े जा चुके हैं। रामगंजमंडी के डीएसपी मंजीत सिंह ने कहा कि देर रात तक बाकी आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा। आरोप है कि 25 फरवरी को सुकेत की बुलबुल और चौथमल मुझे बैग दिलाने के बहाने झालावाड़ ले गए। वहां एक पार्क में कुछ लड़के और मिले। इसके बाद घर, होटल और खेतों में ले जाकर बारी-बारी से बलात्कार करते रहे। गैंगरेप की घटना को लेकर पुलिस की कार्यशैली भी सवालों के घेरे में है।