Bengal Election 2021: छोटी बचत योजनाओं का क्या है बंगाल चुनावी कनेक्शन

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में कटौती के फैसले को 24 घंटे में वापस ले लिया है। वित्त मंत्रालय ने 31 मार्च को नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट और पब्लिक प्रॉविडेंट फंड सहित सभी छोटी बचत योजनाओँ पर interest rates on small saving में कटौती के लिए अधिसूचना जारी की थी। लेकिन 1 अप्रैल को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस आदेश को वापस ले लिया। निर्मला सीतारमण ने कहा कि यह आदेश भूल से जारी हुई था।

Read More….

Sheetla Ashtami 2021: जानिए शीतला माता को क्यों लगाया जाता है ठंडे पकवानों को भोग

असल बात यह है कि ब्याज दरों में कटौती के फैसले को वापस लेने में पश्चिम बंगाल सहित पांच राज्यों में चल रहे विधानसभा चुनाव की महत्वपूर्ण भूमिका है। NSI  पर उपलब्ध डाटा के अनुसार, नेशनल स्मॉल सेविंग फंड (NSSF) में पश्चिम बंगाल bengal election 2021 का सबसे ज्यादा योगदान है। वित्त वर्ष 2017-18 में NSSF में पश्चिम बंगाल का योगदान 15.1% या करीब 90 हजार करोड़ रुपए था। 31 मार्च को जब यह छोटी बचत योजनाओं में ब्याज दरों के घटने का आदेश जारी किया गया तब बंगाल में केवल एक फेज की वोटिंग हुई थी।

इस फैसले के नुकसान को कम करने के लिए 1 अप्रैल को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि यह भूलवश आदेश जारी हो गया था। गाल में अभी भी छह दौर की वोटिंग बची हुई है। यही वजह है कि केंद्र सरकार पश्चिम बंगाल के मतदाताओं की नाराजगी से बचने के ब्याज दरों में कटौती के फैसले को एक ही दिन में पलट दिया है।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US