Ishrat Jahan Encounter Case: इशरत जहां एनकाउंटर मामले में CBI कोर्ट से आखिरी तीन आरोपी भी बरी

सीबीआई की विशेष अदालत में इशरत जहां एनकाउंटर मामले में क्राइम ब्रांच के तीन अधिकारियों की ओर से की गई कार्रवाई को सही ठहराया है। Ishrat Jahan Encounter Case अहमदाबाद की विशेष सीबीआई अदालत ने बुधवार को इशरत जहां मामले में तीन पुलिस अधिकारियों  आईपीएस अधिकारी जीएल सिंघल, सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी तरुण बारोट और अंजु चौधरी को भी बरी कर दिया है। तीनों के खिलाफ कार्रवाई के साथ मुकदमा व्यावहारिक रूप से समाप्त हो गया है, जब तक कि सीबीआई के खिलाफ अपील नहीं की जाती है।

Read More….

New Financial Year: 1 अप्रैल से बदल जाएंगे ये नियम, आपकी जेब पर पड़ेगा असर

सीबीआई ने पहले चार अन्य अधिकारियों को बरी के खिलाफ अपील नहीं की थी। इस मामले के अंतिम तीनों आरोपियों को अदालत ने मामले से रिहा करने के आदेश दिए हैं। विशेष सीबीआई न्यायाधीश वीआर रावल ने यह भी उल्लेख किया कि प्राइमा फेशियल, यह सुझाव देने के लिए रिकॉर्ड पर कुछ भी नहीं था कि इशरत जहां और चार अन्य जो मारे गए थे, वे आतंकवादी नहीं थे। इशरत जहां, प्राणेश पिल्लई, अमजद अली राणा और जीशान जौहर, जिन्हें पाकिस्तानी नागरिक कहा जाता रहा। अहमदाबाद के बाहरी इलाको में 15 जून, 2004 को कोटरपुर वाटरवर्क्स के पास मारे गए थे, जब अहमदाबाद सिटी क्राइम ब्रांच ने वंजारा का नेतृत्व किया था।

डीसीपी का दावा था कि ये चारों तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या के लिए लश्कर-ए-तैयबा के सदस्य थे। बता दें कि साल 2013 में दायर अपनी चार्जशीट में  सीबीआई ने सात पुलिस अधिकारियों पी पी पांडे, क्राइम ब्रांच के मुखिया डी जी बंजारा, एन के अमीन, जे जी परमार, सिंघल, बरोट और चौधरी को मामले में आरोपी बनाया था। सभी आरोपियों पर हत्या, अपहरण और अन्य आरोपों के साथ सबूत नष्ट करने का आरोप था।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US