Jawahar Kala Kendra: कला एंव संस्कृति को लेकर दुनिया में जवाहर कला केंद्र ने बनाई पहचान, जानें JKK के बारे में सबकुछ

सांस्कृति विरासत, कला और शिल्प को संजोए रखने में जयुपर ने विश्व में अपनी पहचान बनाई है। जेकेके में दो स्थायी कला दीर्घाएं और तीन अन्य दीर्घाएं है। यह प्रत्येक साल आयोजित होने वाले उत्सव की मेजबानी भी करता है। अगर आप जयपुर में घूमने के साथ-साथ राजस्थान की कला एवं संस्कृति के मध्य समय बिताना चाहते हैं तो इसके लिए जयपुर का जवाहर कला केंद्र सबसे शानदार जगहों में से एक हैं।

Read More……

Sushant Singh Rajput ने ठीक 10 महीने पहले दुनिया को कहा था अलविदा, एक्टर को याद कर फैंस हुए भावुक

जवाहर कला केंद्र का क्या है इतिहास

8 अप्रैल 1993 में कला और संस्कृति को समर्पित थियटर जवाहर कला केंद्र का उद्घाटन राजस्थान सरकार ने किया। रविंद्र रंगमंच जैसे थिएटर के अलावा जेकेके ने सांस्कृतिक विरासत में अपनी नई पहचान बनाई। जवाहर कला केंद्र (जेकेके) की इमारत का डिजाइन 1986 में वास्तुकार चार्ल्स कोरिया ने तैयार किया था। 1991 में जवाहर कला केंद्र की इमारत बनकर तैयार हुई। राजस्थान सरकार ने जवाहर कला केंद्र का निर्माण कला एवं शिल्प को संरक्षित करने के लिए कराया।   

जवाहर कला केंद्र की इमारत में संग्राहलय से लकेर ओपन थिएटर तक उठाएं लुत्फ

जेकेके का डिजायन तैयार करते वक्त वास्तुकार चार्ल्स कोरिया ने जयपुर की स्थानीय नगर शैली, निर्मित भवनों की शैली को ध्यान में रखकर जवाहर कला केंद्र का नक्शा तैयार किया गया था। इसकी इमारत को कई ब्लॉक में बांटा गया है। जवाहर कला केंद्र की इमारत में संग्रहालय, आवास, रंगमंच, कॉन्फ्रेंस हॉल, उ्दयान, शिल्पग्राम, लाइब्रेरी, कैफेटेरिया और ओपन थिएटर बने हुए हैं।

जेकेके मे पूरे साल राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। रंगमंच के बड़े कलाकारों की ओर से जवाहर कला केंदर् में नुक्कड नाटको का आयोजन किया जाता है। यहां होने वाले कार्यक्रमों में स्थानीय और विदेशी कलाकार भी हिस्सा लेते हैं।

जवाहर कला केंद्र देखने का समय-

सुबह 10 बजे से शाम के 5 बजे तक खुला रहता है। बता दें कि जवाहर कला केंद्र की पूर्ण यात्रा के लिए 2 से 3 घंटे का समय निकालकर अवश्य जाएं।

जवाहर कला केंद्र में प्रवेश शुल्क-

अगर आप जयपुर में जवाहर कला केंद्र घूमने का प्लान बना रहे हैं तो यहां घूमने के के लिए पर्यटकों से किसी भी तरह की एंट्री फीस नहीं ली जाती है यानी जेकेके में प्रवेश के लिए कोई शुल्क नहीं लगता है।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US