Myanmar Violence: म्यांमार में संकट गहराने के संकेत, काचिन अल्पसंख्यकों का पुलिस चौकी पर हमला

उत्तरी म्यांमार में काचिन अल्पसंख्यक समूह के छापामार लड़ाकों ने बुधवार तड़के एक पुलिस चौकी पर हमला बोल दिया। इससे म्यांमार में संकट गहराने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है। इस घटना को फरवरी में म्यांमार में हुए सैन्य तख्ता पलट का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों और सुरक्षाबलों के बीच जारी संघर्ष में काचिन समुदाय की गहरी भूमिका होने के संकेत के रूप में देखा जा रहा है।

Read More…..

Bengal Election 2021: बंगाल चुनाव में क्या है वोट गेमचेंजर का सियासी गणित

बताया जा रहा है कि हमलावरों ने इस दौरान एक पुलिस अधिकारी को घायल कर दिया। इससे पहले शनिवार को पूर्वी म्यांमार में कारेन गुरिल्ला छापमारों ने सेना की एक चौकी पर कब्जा कर लिया था। इसके बाद सेना ने हवाई हमले किए जिससे 10 लोग मारे गए थे। बता दें कि म्यांमार में तख्ता पलट के खिलाफ जारी प्रदर्शनों और अब तक 400 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों की मौत पर अमेरिका सहित कई देशों ने आलोचना की है। लेकिन ऐसा लगता है कि इस मामले में भारत सरकार अब तक खामोश बनी हुई है। म्यांमार में शनिवार को सेना की कार्रवाई पर औपचारिक रूप से अब तक भारत चुप्पी साधे हुए है।

खुद भारत में सरकार की इस बात के लिए आलोचना हो रही है कि भारत उन आठ देशों में क्यों शामिल हुआ। जिन्होंने 27 मार्च को नेपीडाव में म्यांमार सशस्त्र सेना दिवस सैन्य परेड में भाग लिया था। यह आयोजन उस दिन हुआ जब सैनिकों की गोलियों से करीब 100 नागरिकों की मौत हो गई।  आयोजन में शामिल होने वाले भारत के प्रतिनिधि के अलावा चीन, पाकिस्तान और रूस भी शामिल था।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US