Nahargarh Fort: नाहरगढ़ किले में छिपा ये रहस्य, ये सुन चले आते हैं सैलानी

राजस्थान किले और दुर्गों को लेकर प्रसिद्ध है। राजधानी जयपुर में भी कई ऐतिहासिक किले पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। इस शहर के शानदार और समृद्ध इतिहास को दर्शाते दुर्ग किले और महलों में संस्कृति की भव्यता निखर रही है। नाजुक नक्काशी और पत्थरदार कारीगरी के साथ नाहरगढ़ किला एक अभेद्य दुर्ग है जो आमेर किले और जयगढ़ किले के साथ मिलकर जयपुर शहर के मजबूत रक्षक के रूप में खड़ा है।देश विदेश से आने वाले सैलानी जयपुर घूमने के लिहाज से आते हैं वो नाहरगढ़ फोर्ट जाना पसंद करते हैं।

क्या है नाहरगढ़ किले का इतिहास

नाहरगढ़ किले को जयपुर के संस्थापक माहाराज सवाई जयसिंह ने 1734 में बनवाया था। इस किले को गर्मियों के सीजन में महल के रूप में किया जाता था। इस किले की सबसे अच्छी बात यह है कि इस के लंब इतिहास में कभी हमला नहीं हो पाया। हालांकि, यह किला 18वीं शताब्दी में मराठा सेनाओं के साथ संधियों पर हस्ताक्षर करने जैसी ऐतिहासित घटनाओं का स्थल बना रहा। 

Read More….

Sisodia Rani Garden: रानी की याद में बनवाया था जयपुर का ये महल, अब बना प्रेम का प्रतीक

1857 के सैनिक विद्रोह में इस किले में कई यूरोपियन लोगों के आश्रय दिया गया। 1868 में जब राजा सावई राम सिंह ने नाहरगढ़ किले के भीतर महल की एक श्रेणी बनाई तब यह पैलेस जीर्णोद्धार से गुजरा था। नाहरगढ़ किले में शुद्ध देसी रोमांस और रंग दे बंसती जैसी फिल्मों की शुटिंग की जा चुकी है।

जानिए नाहरगढ़ किले का रहस्य

नाहरगढ़ किले को राजस्थान का सबसे आकर्षक किले के तौर पर माना जाता है जो अपने पीले रंग के  साथ गुलाबी नगरी जयपुर में आकर्षकता का केंद्र है। इस किलो को सावई राजा मान सिंह ने अपनी रानियों के लिए निर्मित करवाया था लेकिन राजा के निधन के बाद नाहरगढ़ किले को भूतिया किला कहा जाने लगा।इस किले में अचानक से गर्मी और ठंड महसूस होने लगती है। किले में जाने वाले कई लोगों को कुछ अजीब चीजों का एहसास होने की बात खबरों में है। बताया जाता है किइस किले में कई रहस्य भी छिपे हुए हैं। आप इस किले के “ताड़गीट” नामक प्रवेश द्वार से किले में प्रवेश करेंगे तो आपको को बाईं ओर जयपुर शासकों समर्पित एक मंदिर मिलेगा।

नाहरगढ़ जाने का उचित समय क्या है

आप नाहरगढ़ फोर्ट जाने का प्लान बना रहें तो यहां जाने का सबसे अच्छा समय सर्दियों का होता है। जयपुर शहर की यात्रा करने के लिए ये सबसे उपयुक्त समय है। नाहरगढ़ किले के परिसर आकर्षक संरचनाओं के अलावा एक नाहरगढ़ जूलोजिकल पार्क भी स्थित है जो इस किले का एक खास आकर्षण है।

नाहरगढ़ पैलेस की टाइमिंग

सुबह 10:00 बजे – शाम 5:30 बजे

नाहरगढ़ पैलेस की एंट्री फीस

भारतीय पर्यटकों के लिए – 50 रूपये

विदेशी पर्यटकों के लिए – 200 रुपये

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US