Kerala Election 2021: केरल चुनाव में छाए रहे ये मुद्दे, PM मोदी बोले-बदल चुकी है हवा

केरल की गठबंधन सरकार ने वंशवाद राजनीति को बढ़ावा देने को लेकर बड़ा बयान दिया है। केरल विधानसभा चुनाव के लिए 6 अप्रैल को वोटिंग होनी है। इन चुनावों के मद्देनजर सबरीमाला मंदिर के मुद्दे पर भाजपा सुर्खियों में बनी रहेगी। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़े घर से एक कॉल के साथ पठानमथली में रैली की। PM मोदी बोली कि अब विधानसभा चुनावों की हवा का रूख बदल चुका है। मोदी का आह्वान इसलिए भी खास है कि यह कोनी में जारी किया गया था, जो पहाड़ी मंदिर के नजदीक है और दो सीटों में से एक – कासरगोड में मंजेस्वरम के अलावा पार्टी के राज्य प्रमुख सुरेंद्रन चुनाव मौदान में है।

Read More….

IPL 2021 पर छाए खतरे के बादल, मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम के आठ कर्मचारी पॉजिटिव

2018 में सुरेंद्रन को सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ एक प्रदर्शन में शामिल होने के लिए जेल में डाला दिया गया था। सबरीमाला मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं को प्रवेश करने की अनुमति दी। सत्तारूढ़ सीपीआई (एम) के नेतृत्व वाले एलडीएफ ने अदालत के फैसले का समर्थन किया। 2019 के लोकसभा चुनावों में केवल 20 सीटों पर जीत दर्ज की। इसकी राजनीतिक कीमत चुकानी पड़ी। स्वामी अयप्पा द्वारा दी गई इस पवित्र भूमि में यह विशेष है। 41 दिनों के कठोर उपवास के बाद, लाखों भक्त यहां आते हैं। यह अनुशासन और भक्ति इस भूमि को और अधिक पवित्र बनाती है। स्वामी अयप्पा से लोग अच्छे और दयालु होने का महत्व सीखते हैं।

मोदी ने तब एलडीएएफ पर 2018 के आंदोलन के दौरान “फूलों के साथ” उनका स्वागत करने के बजाय पवित्र स्थलों को “अस्थिर करने” का आरोप लगाया और अयप्पा भक्तों पर लाठियां भांजने की बात कही। एलडीएफ ने केरल की संस्कृति को पिछड़ा हुआ दिखाते हुए केरल की छवि को विकृत करने की कोशिश की। उन्होंने पवित्र स्थानों को अस्थिर करने का प्रयास किया। अय्यप्पा के भक्त, जिनका फूलों से स्वागत किया जाना चाहिए था। उनका लाठियों के साथ अभिवादन किया गया।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US