Tata Mistry Case: साइरस मिस्त्री को बड़ा झटका, चेयरमैन पद की लड़ाई में टाटा को मिली जीत

सुप्रीम कोर्ट ने आज टाटा संस के पक्ष में फैसला सुनाया है। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल के साइरस मिस्त्री कों कंपनी का दोबारा चेयरमैन नियुक्त करने के फैसले को पलट दिया है। टाटा ग्रुप की कंपनी टाटा संस लिमिटेड और शापूरजी पलोनजी ग्रुप के साइरस मिस्त्री के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला दिया है। अदालत ने इस फैसले में साइरस मिस्त्री को टाटा संस के चेयरमैन पद से हटाए जाने को सही ठहराया है।

इस पर सुप्रीम कोर्ट ने आज अपना फैसला दिया है। मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे, वी रामासु्ब्रमण्यम और बोपन्ना की बेंच ने इस फैसले को सुनाया है। गौरतलब है कि एनसीएलटी ने अपने आदेश में 100 अरब डॉलर के टाटा समूह में साइरस मिस्त्री को कार्यकारी चेयरमैन पद पर बहाल किया था। टाटा समूह और मिस्त्री के बीच लंबे समय से विवाद चल रहा है। 28 दिसंबर 2012 को साइरस मिस्त्री को टाटा का चेयरमैन बनाया था। मिस्त्री ने छठे चेयरमैन के पद पर ग्रुप की कमान संभाली लेकिन 2016 में मिस्त्री को पद से हटा दिया गया था।

मिस्त्री को पद से हटाने पर टाटा ग्रुप का कहना था कि ग्रुप के बेहतरी के लिए यह बदलाव जरूरी था। अचानक चेयरमैन पद से हटाने जाने पर मिस्त्री ने टाटा संस के खिलाफ राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण में गए। इसके बाद मामला राष्ट्रीय कंपनी विधि अपीलीय न्यायाधिकरण में पहुंचा और फैसला साइरस के पक्ष में आया। टाटा ग्रुप ने इस फैसले के खिलाफ सु्प्रीम कोर्ट गए थे। अब कोर्ट का इस पर फैसला आया है।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US