Maharashtra Govt Crisis: शिवसेना बोली- शरद पवार करें UPA की अगुवाई, तों कांग्रेस को याद आया गठबंधन

शिवसेना नेता संजय राउत ने गुरुवार को कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गटबंधन (यूपीए) अब लकवाग्रस्त हो गया है। इसके चलते एनसीपी चीफ शरद पवार जैसे एक गैर कांग्रेसी नेता को गठबंधन का प्रमुख बनाया जाना चाहिए। संजय राउत ने नई दिल्ली में मीडिया से बातचीत में यह बयान दिया है। उन्होंने कहा कि संप्रग अब लकवाग्रस्त हो गया है। ऐसे में मुझे लगता है कि राकांपा अध्यक्ष शरद पवार को राष्ट्रीय स्तर पर UPA की अगुवाई करनी चाहिए।

इससे पहले भी संजय राउत कई बार ऐसा सुझाव दे चुके हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या अन्य पार्टियां इस मांग का समर्थन करती हैं। इस पर उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि देश में किसी क्षेत्रीय पार्टी को पवार की ओर से संप्रग का नेतृत्व करने पर ऐतराज होगा। राउत के बयान पर पलटवार करते हुए महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रवक्ता सावंत ने कहा कि शिवसेना संप्रमग का हिस्सा भी नहीं है। अगर वह संप्रग का हिस्सा होती तो समझ में आता। उन्हे इस तरह की बयानबाजी नहीं करनी चाहिए। कांग्रेस नेता ने कहा कि राउत को यह नहीं भूलना चाहिए कि महा विकास अघाड़ी सरकार कांग्रेस के समर्थन से बनी है।  

वहीं 100 करोड़ की वसूली के मामले में घिरी महा विकास अघाड़ी सरकार पर विपक्ष का दबाव बढ़ता जा रहा है। राजनीतिक जानकारों का मानना है कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की सियासी बिसात बिछाई जा चुकी है। 2 मई को बंगाल सहित पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव परिणाम की घोषणा के साथ ही सूबे में कानून व्यवस्था के मुद्दे पर राष्ट्रपति शासन लगवाने की बीजेपी कोशिश में लगी है।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US