Surya Grahan 2021 Date: भारत के इन इलाकों में दिखेगा सूर्य ग्रहण, क्या होगा समय

इस साल का पहला सूर्य ग्रहण कल होने जा रहा है। ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार, सूर्य ग्रहण का प्रभाव पूरे संसार पर होता है। ग्रहण के अच्छे और बुरे प्रभाव किसी को भी झेलने पड़ सकते हैं। ग्रहण में कोई भी शुभ कार्य करने पर मनाही है। साल का पहला सूर्य ग्रहण 10 जून को लगेगा। गुरुवार को उत्तरी गोलार्ध के कुछ हिस्सों में रिंग ऑफ फायर  के तौर पर सूर्य ग्रहण देखने को मिलेगा। कुछ देशों में आंशिक सूर्य ग्रहण भी नजर आएगा। सूर्य ग्रहण के दौरान चंद्रमा किनारों के चारों तरफ एक वलय को छोड़कर सूर्य के ठीक सामने चलता है। इससे ‘रिंग ऑफ फायर’ लुक बनता है।

सूर्य ग्रहण कल दोपहर 1:42 बजे से शुरू होकर शाम 06:41 बजे समाप्त होगा। 10 जून को सूर्यग्रहण दोपहर 1 बजकर 42 मिनट पर शुरू होकर शाम के 6 बजकर 41 मिनट पर खत्म होगा। उत्तरी अमेरिका, यूरोप और एशिया, उत्तरी कनाड़ा, ग्रीन लैंड और रूस ज्यादातर हिस्सों में इसे देखा जा सकेगा। 148 साल बाद इस बार अद्भूत संयोग देखने को मिलेगा। तिथि काल गणना के मुताबिक, यह पहला मौका है कि शनि जयंती के दिन सूर्य ग्रहण लगेगा। 10 जून को सूर्य ग्रहण का अद्भुत योग भी बनेगा। हालांकि, चंद्र ग्रहण की तरह भारत के लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश में आंशिक तौर से दिखाई देगा।

बता दें कि सूर्य देव और शनि पिता पुत्र हैं। पौराणिक मान्यता है कि दोनों मतभेद और अलगाव रहे हैं। पूर्वी संयुक्त राज्य अमेरिका, उत्तरी अलास्का, उत्तरपूर्वी कनाडा और यूरोप के कुछ हिस्सों में लोग आंशिक ग्रहण देख सकेंगे। कनाडा, ग्रीनलैंड और साइबेरियाई रूस के कुछ हिस्सों में लोग वलयाकार सूर्य ग्रहण दिखाई देगा। भारत में वलयाकार सूर्य ग्रहण नहीं देख पाएंगे। लेकिन इसे ऑनलाइन जरूर देख सकते हैं। भारत में इस ग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं होगा। ज्योतिष के अनुसार, उसी ग्रहण का सूतक काल मान्य होता है जो ग्रहण अपने अपने यहां दृष्टिगोचर होता है।