Tokyo Olympics: नीरज चोपड़ा ने रचा इतिहास, 121 साल में पहली बार भारत को गोल्ड

नीरज चोपड़ा शनिवार शाम को टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय बन गए। टोक्यो ओलंपिक में नीरज चोपड़ा ने 121 साल में पहली बार ट्रेक एंड फील्ड में पहली बार भारत को सोना दिलाते हए इतिहास रचा है। भारतीय ने विश्व के नंबर एक जोहान्स वेटर को हराकर पुरुषों की भाला फेंक फाइनल में उपलब्धि हासिल की। यह ओलंपिक के इतिहास में एथलेटिक्स में भारत का पहला पदक भी था।

नीरज ने 87.03 मीटर के विशाल के साथ कार्यवाही की शुरुआत की और फिर दूसरे प्रयास में 87.58 मीटर तक पहुंचकर इसे आगे बढ़ाया। हालांकि, भारतीय के तीसरे और चौथे प्रयास की कोई गिनती नहीं थी। नीरज चौपडा ने अपने दूसरे प्रयास में 87.58 मीटर भाला फेंका जो सोने का तमगा हासिल करने के लिये काफी था। इससे टोक्यो ओलंपिक एथलेटिक्स में भारत को पहला गोल्ड मिला है। टोक्यो ओलंपिक में

भारतीय पहलवान बजरंग पुनिया ने पुरुषों की फ्रीस्टाइल 65 किग्रा भारवर्ग में कजाकfस्तान के पहलवान नियाजबेकोव दौलत 8-0 से हराते हुए कांस्य पदक को भारत की झोली में डाला है। भारत के तीन एथलीट्स ने शनिवार को टोक्यो ओलंपिक 2020 में पदक के लिए मुकाबला किया है।

गोल्फ में अदिती अशोक शानदार प्रदर्शन किया लेकिन पदक से चूक गईं। भाला फेंक में नीरज चोपड़ा फाइनल मुकाबले में भारत के लिए गोल्ड लाए हैं। माना जा रहा था कि अगर ये तीनों मेडल भारत जीतता है तो 8 मेडल हो जाएंगे जो भारत का ओलंपिक के इतिहास में सर्वश्रेष्ठ पर्दर्शन होगा।

टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारत के लिए पहला मेडल वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने सिल्वर मेडल जीता। इसके बाद बैडमिंडन स्टार पीवी सिंधु ने कांस्य पदक पर कब्जा किया। बॉक्सर लवलीना ने कांस्य पदक जीता। इसके बाद भारत के पहलवान रवि दहिया ने टोक्यो में भारत को दूसरा सिल्वर मेडल दिलाया।