उत्तराखंड में Tirath Singh Rawat की गई कुर्सी, अब बंगाल में CM ममता बनर्जी पर संवैधानिक संकट

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की कुर्सी चली गई है। संवैधानिक संकट के चलते उन्होंने राज्यपाल को इस्तीफा सौंपा है। तीरथ सिंह रावत विधानसभा के सदस्य नहीं थे और मौजूदा हालात में उपचुनाव होना भी मुश्किल था। इसके चलते उन्हें त्यागपत्र सौंपना पड़ा। तीरथ सिंह रावत शुक्रवार देर रात उत्तराखंड के उन मुख्यमंत्रियों के सूची में शामिल हो गए जो अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाए थे।

Read More……

Rajasthan: जयपुर में यहां बनेगा दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम, जानें कब तक होगा तैयार

दिल्ली में बीजेपी के केंद्रीय मुख्यालय में कई उच्च स्तरीय बैठकों के बाद रावत ने शुक्रवार रात 11 बजे के बाद राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से मुलाकात की। बीजेपी ने कई कारणों से सीएम के लिए उप-चुनाव नहीं करने का फैसला किया है। इनमें से एक प्रमुख कारण पश्चिम बंगाल की स्थिति है जहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को नंदीग्राम में सुवेंदु अधिकारी ने हराया था। तीरथ सिंह रावत के बाद अब पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए भी मुश्किलें खड़ी हो सकती है। ममता बनर्जी ने 4 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। ऐसे में उन्हें शपथ लेने के दिन से 6 महीने के अंदर विधानसभा का सदस्य बनना जरूरी है और यह संवैधानिक बाध्यता है।

चुनाव लड़ने के लिए उन्होंने एक सीट भवानीपुर खाली भी कराई लेकिन वह विधानसभा की सदस्य तभी बन पाएंगी जब 4 नवंबर यानी 6 माह के भीतर चुनाव हो सके। कोरोना के कारण केंद्रीय निर्वाचन आयोग ने सभी चुनाव स्थगित कर रखे हैं। चुनाव प्रक्रिया कब से शुरू होनी है इस बारे में फिलहाल कहा नहीं जा सकता है। ऐसे में ममता की कुर्सी पर संवैधानिक खतरा मंडराने लगा है।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US