World Book Day 2021: इसलिए मनाया जाता है विश्व् पुस्तक दिवस, जानिए इसका महत्व

दुनिया भर में हर साल 23 अप्रैल को विश्व पुस्तक दिवस मनाया जाता है। यह दिवस किताबों के समर्पित है। किताबें हमें ना सिर्फ ज्ञान के राह पर चलाती है बल्कि अकेलेपन में यह दोस्त बनकर साथ निभाती है। इस दिवस को मनाने की खास वजह लोगों में किताबें पढ़ने के लिए रुचि पैदा करना है। एक बार फिर से कोरोना महामारी ने रफ्तार पकड़ी है। लोगों को फिर से सोशल डिस्टेसिंग के लिए विवश होना पड़ रहा है। ऐसे वक्त में किताबों की अहमियत और बढ़ जाती है। लॉकडाउन में अकेलेपन में किताबें मनोरंजन के साथ जानकारी का अहम जरिया है। 

Read More…..

Covid19 India: देश में कोरोना का नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में आए 3.32 लाख नए मरीज, 2256 की मौत

World Book Day 2021 का क्या है महत्व

हर साल 23 अप्रैल को विश्व पुस्तक मनाया जाता है। इसे विश्व पुस्तक और कॉपीराइट दिवस भी कहते हैं। दुनियाभर में किताबों के महत्तव को बताने के लिए विश्व पुस्तक दिवस मनाया जाता है। हमारे जीवन में किताबें एक दोस्त बनकर साथ रहती है। अकेलेपन से छुटकारा दिलाने के लिए मानव जीवन में किताबों का खास महत्व है। किताबों को इतिहास और भविष्य के बीच एक पुल की तरह माना गया है। इस खास दिन यूनेस्को और इसके अन्य सहयोगी संगठन आगामी वर्ष के लिए वर्ल्ड बुक कैपिटल का चयन करते हैं। इसका उद्देश्य ये होता है कि अगले एक साल के लिए किताबों के इर्द-गिर्ज होने वाले कार्यक्रम आयोजित हों। दुनिया भर मे वर्ल्‍ड बुक डे मनाने का उद्देश्‍य यही है कि लोग किताबों की अहमियत को समझें।

इस खास दिन की कब से हुई शुरुआत

लोगों के जीवन के लिए किताबें एक आइना है जो अच्छे बुरे की सीख देती है और बौद्धिक विकास करती है। किताबें हमारे भविष्य के लिए मार्गदर्शक की तरह है। ऐसे में हमारे जीवन में इनका महत्व कम नहीं है। विश्व पुस्तक दिवस को मनाने की यूनेस्‍को ने 23 अप्रैल, 1995 को शुरुआत की थी इस दिन के जरिए यूनेस्को का उद्देश्य होता है कि दुनियाभर के लोगों के बीच साक्षरता को बढ़ावा दिया जाए। साथ ही सभी शैक्षणिक संसाधनों की पहुंच सनिश्चित करना है।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US