पंचतत्व में विलिन हुए रफ्तार के सरकार, नम आंखों से मिल्खा सिंह को दी अंतिम विदाई

भारत के महान धावक मिल्खा सिंह का चंडीगढ़ में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। चंडीगढ़ के मटका चौक स्थित शमशान घाट में मिल्खा सिंह को अंतिम दर्शनों के लिए केंद्रीय मंत्री किरन रिजिजू, पंजाब के राज्यपाल और खेलमंत्री सहित कई दिग्गज मौजूद रहे। इससे पहले पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उनके घर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। मिल्खा सिंह का शुक्रवार की रात 11.30 बजे चंडीगढ़ पीजीआई अस्पातल में कोरोना से निधन हो गया था। 91 साल की उम्र में मिल्खा सिंह के निधन पर पंजाब में एक दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया।

Read More…..

Coronavirus Third Wave: देश में अक्टूबर तक दस्तक दे सकती है कोरोना की तीसरी लहर, अलर्ट जारी

‘द फ्लाइंग सिख’, उन्हें प्यार से कहा जाता था। 5 दिन पहले मिल्खा की पत्नी  भारत की पूर्व वॉलीबॉल कप्तान  निर्मल कौर उसी मोहाली अस्पताल में कोरोना से जंग हार गई थी, जहां महान धावक मिल्खा सिंह ने आखिरी सांस ली। मिल्खा के परिवार में 14 बार के अंतरराष्ट्रीय विजेता और गोल्फर बेटे जीव मिल्खा सिंह, बेटियां मोना सिंह, सोनिया सिंह और अलीजा ग्रोवर हैं।

मिल्खा सिंह ने 20 मई को कोरोना के लिए टेस्ट कराया था और 24 मई को मोहाली के एक निजी अस्पताल में भर्ती हो गए थे। पीजीआई के नेहरू अस्पताल में भर्ती होने से पहले उन्हें 30 मई को छुट्टी दी गई थी। लेकिन 3 जून को ऑक्सीजन का स्तर गिरने से उन्हें मेडिकल आईसीयू में शिफ्ट किया गया था। शुक्रवार शाम उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई। ऑक्सीजन स्तर में गिरावट सहित जटिलताओं से खतरा ज्यादा बढ गया था। मिल्खा सिंह के निधन से खेल जगत में शोक की लहर दौड़ पड़ी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिल्खा सिंह के निधन पर शोक जताया है।

खबरों से अपडेट रहने के लिए BADHTI KALAM APP DOWNLOAD LINK: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.badhtikalam.badhtikalam&hl=en&gl=US